Blog

Chandra Grahan (Lunar Eclipse) 26th, May 2021 Date and Time in India 

चंद्र ग्रहण कब है?
वर्ष 2021 का ये पहला चंद्र ग्रहण विक्रम संवत् 2078 में वैशाख पूर्णिमा के दिन वृश्चिक राशि और अनुराधा नक्षत्र में लग रहा है।
Chandra Grahan or Lunar Eclipse May 2021 Date and Time in India: चंद्र ग्रहण एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती है। जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के बीच आ जाती है और चंद्रमा पृथ्वी की छाया से होकर गुजरता है तो इसे चंद्र ग्रहण कहा जाता है। ये घटना केवल पूर्णिमा के दिन ही घटित होती है। 
चंद्र ग्रहण को पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया, जापान,  पूर्वी रूस, पूर्वी चीन, प्रशांत महासागर और अमेरिका के कई क्षेत्रों में देखा जा सकेगा। 
भारत में ये उपच्छाया चंद्र ग्रहण की तरह दिखेगा। अधिकांश भारत में यह चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं देगा ज्योतिष अनुसार इस ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं होगा। 

चंद्र ग्रहण के दौरान क्या न करें? 

-चंद्र ग्रहण के दौरान किसी भी तरह के शुभ कार्य न करें।
-इस दौरान भोजन बनाने और खाने से बचें।
-वाद-विवाद से बचें।
-धारदार वस्तुओं का प्रयोग न करें।
-भगवान की प्रतिमाओं को हाथ न लगाएं और तुलसी के पौधे के भी न छुएं।
-ग्रहण काल में सोना वर्जित माना जाता है।
-ग्रहण काल में गर्भवती स्त्रियां घर से बाहर न निकलें। 

ग्रहण काल में क्या करें:
-ग्रहण के समय मन ही मन अपने ईष्ट देव की अराधना करें।
-मंत्रोंच्चारण करने से ग्रहण की नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है।
-ग्रहण की समाप्ति के बाद आटा, चावल, सतनज, चीनी आदि चीजों का जरूरतमंदों को दान करें।
-ग्रहण लगने से पहले खाने पीने की वस्तुओं में तुलसी के पत्ते डालकर रख दें।
-ग्रहण की समाप्ति के बाद घर की सफाई कर खुद भी स्नान कर स्वच्छ हो जाएं।  

चंद्र ग्रहण का समय 
पंचांग अनुसार ये ग्रहण बुधवार 26 मई 2021 को दोपहर 2 बजकर 17 मिनट पर शुरू होगा और इसकी समाप्ति 07 बजकर 19 मिनट पर होगी। 

ग्रहण का राशिफल 
राशि 
• मेष: सुख प्राप्ति का योग 
• वृषभ: पति/ स्त्री कष्ट 
• मिथुन: रोग 
• कर्क: अपयश 
• सिंह: कार्यों में सफलता 
• कन्या: लाभ प्राप्ति का योग 
• तुला: हानि 
• वृश्चिक: पीड़ा 
• धनु: व्यय 
• मकर: लाभ 
• कुम्भ: क्षति
• मीन: चिंता